Does size matter during sex? | क्या सेक्स के दौरान साइज मैटर करता है


Does size matter during sex? | क्या सेक्स के दौरान साइज मैटर करता है

Does size matter during sex? | क्या सेक्स के दौरान साइज मैटर करता है_ Ichhori.com


सेक्स को लेकर भारतीय समाज में काफी मिथक फैले हुए हैं| हमारे यहां सेक्स और सेक्स ऑर्गन के बारे में बात करना वर्जित है| इसलिए लोगों के मन में इसके बारे में कई सारे सवाल उठते रहते हैं| इतना ही नहीं महिलाओं के मन में पुरुषों के सेक्स ऑर्गन पेनी को लेकर बहुत सारे मिथक और गलत जानकारी की भरमार है |इसका मुख्य कारण वे पोर्न साइट होते हैं जिन्हें हम अक्सर अपनी जिज्ञासा शांत करने के लिए देखते हैं| यह साइट पुरुषों के मन में महिलाओं के शरीर के प्रति और महिला के मन में पुरुषों के शरीर के प्रति गलतफहमी उत्पन्न करते हैं |

पोर्न साइट में दिखाए जाने वाले सेक्स सिन असल जिंदगी में मुमकिन नहीं है, क्योंकि यह ख्यालों की दुनिया होती है और यहां पर बट, ब्रेस्ट और पेनी का साइज सामान्य से बड़ा दिखाते हैं| हम अक्सर जब पोर्न मूवी देखते हैं तो अपने ख्यालों में अपने पार्टनर का अंग उतना ही बड़ा देखना चाहते हैं| यहां तक कि पुरुषों के मन में भी यह सवाल उठता है कि क्या मैं अपनी पैनी साइज के जरिए अपनी फीमेल पार्टनर को खुश रख पाऊंगा या नही |

एक स्टडी के अनुसार समाज के 45% पुरुष अपने पेनी के साइज से खुश नहीं है और वे इसे बड़ा रखने की चाह रखते हैं |मगर आपको यह जानकर हैरानी होगी कि विशेषज्ञों के अनुसार शिथिल अवस्था में पेनी की औसत लंबाई 3. 61 इंच और मोटाई 3.66 होती है वही उत्तेजना की अवस्था में औसत लंबाई 5.16 इंच और मोटाई 4.59 इंच होती है |

वही एक सर्वे में 18 से 25 साल के 50 हजार से अधिक गर्ल स्टूडेंट पर स्टडी की गई |जिसमें से लगभग 45 हजार स्टूडेंट ने कहा पेनी की मोटाई ज्यादा जरूरी है ना कि पेनी की लंबाई |क्योंकि वजाइना में काफी इलास्टिसिटी होती है |इसकी इलास्टिसिटी इस बात से प्रूफ होती है कि यदि डॉक्टर अपनी अंगुली की मदद से योनि की जांच करता है तो वह इतनी विस्तृत हो जाती है और जब बच्चा होता है तो योनि उसके हिसाब से विस्तृत हो जाती है |मतलब यह है कि पेनी की चौड़ाई कम हो या ज्यादा, लंबाई कम हो या ज्यादा योनी हर तरह की पैनी को अपने अंदर समा सकती है |मगर यहां खास बात यह है कि पेनी का साइज जीतना मोटा होगा उतना ही अधिक पेल्विक ओपनिंग और उसके अंदर की नस को उत्तेजित कर सेक्स के आनंद को बढ़ा देगा|

सेक्स के दौरान पेनी की लंबाई की उपयोगिता- महिलाओं की वजाइना की औसत सेक्सचुअल गहराई 6 इंच के करीब होती है |सेक्स के दौरान जो इरेक्शन होता है उसका संसेशन आगे के दो तिहाई हिस्से यानी कि 2 इंच तक ही होता है |अंदर के दो तिहाई हिस्से में कोई सेक्स को लेकर कोई सेंसेशन नहीं होता है |इस बात से यह साफ जाहिर होता है कि सेक्स के दौरान एंजॉयमेंट के लिए पेनी की लंबाई मायने नहीं रखती बल्कि पार्टनर का उस हिस्से पर ध्यान केंद्रित होना जरूरी है जहां पर सेंसेशन होता है| इस थ्योरी के हिसाब से महिलाओं को यौन संतुष्टि पाने के लिए पुरुषों के पेनी की लंबाई यदि 2 इंच जैसे थोड़ी भी ज्यादा है तो पर्याप्त होती है |

सेक्स के दौरान पेनी का साइज एकमात्र इंडिकेटर नहीं होता है जो यह तय करें कि आपके पाटनर में सेक्स के दौरान कैसा परफॉर्म किया है ,सेक्स के दौरान संतुष्टि के लिए अन्य कई बातें भी इंपोर्टेड होती है |हर महिला के लिए सेक्स में पेनिस का साइज अलग-अलग मायने रखता है ,किसी के लिए लंबा पेनी तकलीफ देह होता है तो किसी के लिए आनंद का विषय |

महिलाओं पर किए गए एक सर्वे में उनसे यह सवाल पूछा गया था कि आपको  सेक्सुअल संतोष  ज्यादा मायने रखती है या फिर आपको अपने पार्टनर की पेनी साइज मेटर करती है |इस सर्वे में यह बात सामने आई कि महिलाओं अपने पार्टनर से सेक्स में संतुष्टि चाहिए होती है ,फिर चाहे पेनी का साइज कुछ भी हो क्योंकि महिलाओं का मानना है कि सेक्स के दौरान सिर्फ पेनी से ही संतुष्टि नहीं मिलती है पूरी संतुष्टि के लिए पाटनर का परफॉर्मेंस भी मायने रखता है| अधिकतर महिला ने इस रिसर्च में इस बात को माना है कि उन्हें अपने पार्टनर के लंबे पेनी के बजाय  मोटे पेनी मे ज्यादा दिलचस्पी हैं| क्योंकि पेनी का साइज जीतना मोटा होगा उतना ही इंटर कोर्स के समय आनंद की अनुभूति होती है| मगर पूरी तरह से सेक्स की संतुस्टि कभी भी इंटर कोर्स का मोहताज नही होती है |आपने आपके पार्टनर ने आपके साथ कितना क्वालिटी टाइम बीताया है ,यह ज्यादा मायने रखता है| आपका पार्टनर यदी आपकी भावनाओं को ध्यान में रखकर आपके साथ सेक्सुअल रिलेशनशिप बनाता है तो आप उसके साथ रिलेशन में रहकर हमेशा खुशी का ही अनुभव करेंगे |इसलिए जब भी आप अपने पार्टनर के साथ कुछ नीजी पल बिताए तो उस समय पोर्न फिल्म के किरदारों को याद कर कर अपने और अपने पार्टनर की भावनाओं का मजाक ना बनाएं|

इन सब बातों को पढ़ने और समझने के बाद भी  यदि फिर भी आप अपने पार्टनर के पेनी साइज को जाचना चाहती हैं, तो प्यूबिक भाग में जमा फेट से लेकर ग्लांस तक नापना होता है |इसके लिए प्युबिक भाग पर अगर फेट जमा हो तो उसे दबा कर दूसरी ओर ग्लांस तक उसके ऊपर की स्किन को अलग हटाकर लंबाई में नापे| मोटाई चेक करने के लिए पीने के बीच वाले भाग का नाप लिया जाता है| इस तरह आप लेकर आप अपने पार्टनर के साइज को आसानी से मेजर कर सकती है |शरीर संतुष्टि के साथ-साथ मानसिक संतुष्टि का अनुभव भी कर सकते हैं की आपके पाटनर का पेनि साइज ओसत है या उससे ज्यादा| विशेषज्ञों के अनुसार औसत साईज़ का पेनी होना सेक्स ड्राइव के लिए सही रहता है|

महिला और पुरुषों की पेनी के सायज को लेकर होने चिंता के कारण अक्सर कंपनियां इस बात का फायदा उठाती है| आजकल बाजार में कई तरह की दवाइयां मौजूद है जो कुछ ही समय में पेनी को लंबा करने का दावा करती हैं |मगर हकीकत में यह दवाइयां बिल्कुल भी कारगर साबित नहीं होती है | यदि किसी कारणवश आपके पार्टनर का लिंग शिथिल अवस्था में 1 पॉइंट 60 इंच और इरेक्शन के समय 3 से इंच भी छोटा है ,तो ही उन्हें पेनिस एलाइनमेंट ट्रीटमेंट की आवश्यकता होती है ,

पेनी को बड़ा करने का तरीका-

पीने की साइज को बढ़ाने के लिए एक खास तरह कि सर्जरी जो की प्यूबिक लिगामेंट पर की जाती है |इसके लिए प्यूबिक पार्ट पर जमे हुए फेट को सर्जरी के जरिए अलग किया जाता है, इस फेट के जरिए पेनी दबा हुआ रहता है और फैट हटाने के बाद पेनिस का साइज बड़ा हो जाता है| डॉक्टर की सलाह पर कुछ ऑयल और मेडिसिन का यूज करने से पेनी की मसल में ब्लड फ्लो बढ़ जाता है, इस कारण उसका आकार कुछ बड़ा होने लगता है|

विनीता मोहता विदिशा

Image Source: Google




Previous Post Next Post