Peeth mein dard kyon hota hai? mahilaon mein kamar dard ka ilaaj kaise karen?- पीठ दर्द क्यों होता है? महिलाओं में कमर दर्द का इलाज कैसे करें?

 महिलाओं के पीठ के निचले हिस्से में दर्द है और उससे छुटकारा कैसे पा सकते हैं - 


महिलाओं में पीठ के निचले हिस्से में दर्द के कई संभावित कारण है क्योंकि आज की भागदौड़ वाली जिंदगी में महिलाओं के पास अपने सेहत का ध्यान रखने तक का समय नहीं मिलता क्योंकि महिलाओं के पास जिम्मेदारी का दबाव होता है जिसके कारण वह अधिक तनाव महसूस करती है और उनका स्वभाव चिड़चिड़ा हो जाता है और अक्सर इस कारण वह अपने भीतर कितनी ही बीमारियों को जन्म दे देती है,


क्योंकि अधिकांश महिलाएं तनाव के कारण कई बार अपने दर्द को नजरअंदाज कर देती है क्योंकि उनके पास इतना समय ही नहीं कि वो अपने ऊपर ध्यान दें सके इस कारण पीठ के निचले हिस्से में दर्द होने के कई कारण हैं और कुछ कारण गंभीर बीमारियों का भी संकेत देते हैं,जिन्हें नजरअंदाज नहीं करना चाहिए


 तो सबसे पहले यह जानना अति आवश्यक है कि ऐसे कौन से कारण है जिसके कारण पीठ के निचले हिस्से में दर्द होता है और इससे छुटकारा पाने के क्या उपाय है और इससे आप कौन कौन सी गंभीर बीमारियों का शिकार बन सकती हो क्योंकि कभी कभी महिलाओं में पीठ के निचले हिस्से में दर्द कई अलग अलग स्थितियों और अंतर्निहित कारणों के कारण हो सकता है यह दर्द ऐसी स्थितियों के कारण भी हो सकता है जो किसी भी उम्र या लिंग पर प्रभाव डाल सकती है जैसे - मांसपेशियों में खिंचाव।


1. पीएमएस  (प्रीमैंस्टुअल सिंड्रोम) - पीएमएस एक ऐसी स्थिति है जो महिलाओं को उनके पीरियड्स से  पहले शुरू हो जाती है,जो सभी महिलाओं में होना संभव नहीं है इसके कुछ संभावित लक्षण है - जैसे 

   निचली कमर का दर्द

     थकान

     सूजन

     सिरदर्द इत्यादि शारीरिक लक्षण है।




     

  2.   कष्टार्तव - बहुत दर्दनाक महामारी को कष्टार्तव के रूप में  जाना जाता है हालांकि यह आमतौर पर प्रबंधनीय है लेकिन यह कुछ लोगों में बहुत गंभीर हो सकता है 

  कष्टार्तव से दर्द आमतौर पर निचले पेट, पीठ के निचले हिस्से, कूल्हों और पैरों में महसूस होता है यह आमतौर पर एक से तीन दिन तक रहता है।

  

  3. हर्नियेटेड डिस्क - एक हर्नियेटेड डिस्क तब होती है जब डिस्क में से एक जो आपके कशेरुकाओं को कुशन करती है संकुचित हो जाती है और बाहर की तरफ उभार लेती है यह अंततः डिस्क को टुटने के कारण बन सकता है,

  एक चोट के कारण भी हर्नियेटेड डिस्क हो सकती है जैसे जैसे आप बूढ़े हो जाते हो वैसे वैसे इसकी संभावना अधिक बढ़ती जाती है निचली पीठ हर्नियेटेड डिस्क के लिए आम जगह है लेकिन यह आपकी गर्दन में भी हो सकती है।


4. डिस्क पतन - अध पतन आपकी गर्दन और पीठ के निचले हिस्से में सबसे आम है यह दर्द आपके नितंबों और जांघों तक बढ़ सकता है और यह गंभीर भी हो सकता है और यह आ और जा भी सकता है।


5.कटिस्नायुशूल - कटिस्नायुशूल संपीड़न या की चोट की वजह से एक लक्षण है sciatic तंत्रिका । यह वह तंत्रिका है जो आपके नितंबों के माध्यम से आपकी रीढ़ की हड्डी के नीचे और आपके पैरों के पीछे से यात्रा करती है 

कटिस्नायुशूल जलती हुई दर्द या एक दर्द का कारण बनता है जो आपकी पीठ के निचले हिस्से में झटके की तरह महसूस करता है गंभीर मामलों, में पैर की सूजन या कमजोरी भी हो सकती है।


6. PMDD ( प्रीमेंस्टुअल डिसमॉफ्रिक डिस्ऑडर) - PMDD पीएमएस का एक गंभीर रूप हैं जहां लक्षण दैनिक जीवन में हस्तक्षेप करते हैं पीएमडीडी वाले लक्षण होने पर  कुछ लोगों को कार्य करने में भी परेशानी महसूस होती है,

और यदि आपके पास अवसाद या अन्य मनोदशा संबंधी विकारों का पारिवारिक इतिहास है या पीएमडीडी का पारिवारिक इतिहास है तो इसका जोखिम बहुत अधिक बढ़ सकता है।


7. एंडोमेट्रियोसिस - दर्द एंडोमेट्रियोसिस का सबसे आम लक्षण है यह आपके पीरियड्स के बीच रक्तस्राव या स्पॉटिंग का कारण बन  सकता है और दस्त और पाचन संबंधी आम समस्याएं भी हो सकती है। यह मूत्र पथ और आंत्र के आसपास भी बढ़ सकता है 


8. गर्भावस्था - गर्भावस्था के दौरान पीठ दर्द होना आम है ज्यादातर महिलाओं के पीठ में दर्द सातवें या पांचवें महीनों के बीच होता है यह इससे पहले भी शुरू हो सकता है।


9. मांसपेशियों में तनाव - एक मांसपेशियां स्नायु बंधन में तनाव  पीठ के निचले हिस्से में  दर्द होने के आम कारणों में से एक है इनके अन्य लक्षण भी हो सकते हैं - 

  जैसे -

1. बार बार भारी सामान उठाना

 2. अजीब ढंग से घूमना

 3.अचानक अजीब हरकत

 4.मांसपेशियों या अस्थिभंग इत्यादि 

      

10. अपक्षयी रीढ़ की स्थिति - ऑस्टियोपोरोसिस और ऑस्टियोआर्थराइटिस जैसी कुछ बीमारियां पीठ के निचले हिस्से में दर्द का कारण बन सकती है ऑस्टियोपोरोसिस के कारण हड्डियां कमजोर और भंगुर हो जाती है जो संभावित रूप से रीढ़ को फ्रैक्चर की ओर ले जाती है।

 ऑस्टियोआर्थराइटिस एक प्रगतिशील संयुक्त रोग है जो सुरक्षात्मक उपास्थि को जोड़ता है।


11. कैंसर - कैंसर के संबंध में पीठ के निचले हिस्से में दर्द हो सकता है कुछ मामलों में - काठ के क्षेत्र में ट्यूमर के कारण भी हो सकता है।


12. रीढ़ की असामान्य वक्रता - यदि रीढ़ असामान्य तरीके से घटता है तो पीठ में दर्द हो सकता है उदाहरण - स्कोलियोसिस।


13. किडनी की समस्या - किडनी में पथरी या किडनी में संक्रमण के कारण कमर दर्द हो सकता है।

14.  निम्न कारण भी पीठ दर्द के विकास के उच्च जोखिम से जुड़े हैं - 

   1. व्यवसायिक गतिविधियां

   2. एक गतिहीन जीवनशैली

   3. खराब शारीरिक फिटनेस

   4. बडी उम्र

   5. ध्रूमपान

   6. जोरदार शारीरिक व्यायाम या काम 

   7. मोटापा और अतिरिक्त वजन इत्यादि कारण है।


कुछ घरेलू उपाय है जिससे पीठ के दर्द में राहत मिल सकती है लेकिन इसके साथ ही यह जानना भी आवश्यक है कि ऐसे कौन से उपाय है जिससे पीठ के निचले हिस्से में होने वाले दर्द से बचाव किया जा सकता है और किस स्थिति में हमें डॉक्टर से परामर्श करने की आवश्यकता है तो सबसे  


पहले पीठ के निचले हिस्से में दर्द से कैसे करें बचाव -


   1. कुर्सी पर बैठते समय आराम से बैठे ध्यान रखें कि पीठ 

  को कुर्सी का सपोर्ट मिलना जरूरी है हर एक घंटे के बाद कुर्सी से उठ जाए जिससे शारीरिक स्थिति में बदलाव आए।काम के बीच में थोड़ा ब्रेक ले।

  2. पैदल चलें - 

  3. वजन उठाते वक्त सावधानी रखें - वजन उठाते समय पूरी तरह नीचे न बैठें वजनदार चीज आपके शरीर के पास आने दो तभी उसे उठाएं।

  4. कम्प्यूटर पर काम करते समय इस बात का ध्यान रखें कि यदि आप लैपटॉप या कम्प्यूटर पर काम कर रहे हैं तो उसका ऊपरी भाग 90 डिग्री के कोण पर होना चाहिए साथ ही माउस भी । मोबाइल पर काम करते समय नजर नीचे रखे।

  5. स्वस्थ खान पान - अपने स्वास्थ्य का ध्यान रखें।

  6. सोने का सही तरीका - सोने का सबसे अच्छा तरीका करवट लेकर  सोना और पैरों के बीच तकिया रखना ।

  7. नियमित व्यायाम और योग करें - शरीर को लचीला और शारीरिक मुद्रा अच्छी बनाए रखने के लिए नियमित व्यायाम और योग करें।

  8. मानसिक तनाव को कम करें - क्योंकि इससे पीठ दर्द की संभावना रहती है।

  9. धूम्रपान न करें - धूम्रपान करने से पीठ दर्द की मौजूदा समस्या अधिक बढ़ जाती है।

  10. गर्म पानी के भाप, अदरक, लहसुन, खसखस, बर्फ की सिकाई, सेंधा नमक, आदि घरेलू उपाय है जो पीठ के दर्द में राहत दिलाते हैं।

   सामान्य रूप से कमर दर्द का घरेलू उपाय किया जाता है लेकिन इसके कुछ ऐसे लक्षण होते हैं जिनके लिए डॉक्टर से सम्पर्क करने की आवश्यकता होती है जो कि निम्न हैं - 

      1. दर्द 6 सप्ताह से अधिक समय तक रहता हो

      2. कमर का ऐसा दर्द जो रात में होता हो

      3. हाथों या पैरों में कमजोरी, सूजन।

      4. कमर का ऐसा दर्द जो घरेलू उपाय करने के बाद भी कम नहीं हुआ हो तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए।


Previous Post Next Post